भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में कोविड-19 के नियंत्रण के लिए अच्छे प्रयास हुए हैं। सामाजिक स्तर पर विवाह समारोहों और पार्टी आयोजित करने जैसे कारणों से पॉजीटिव प्रकरण सामने आ रहे हैं, जिनके नियंत्रण के लिए शासकीय और सामाजिक दोनों स्तर पर सजग रहकर कार्रवाई की जाए। सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क के उपयोग की सावधानी निरंतर बरतना है। पॉजीटिव प्रकरण आने की वजह समाप्त की जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मंत्रालय से प्रदेश में कोविड-19 की स्थिति की समीक्षा के दौरान यह निर्देश दिए। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने 16 जुलाई से मध्य प्रदेश में लॉकडाउन लगने की खबर को निराधार बताया है। सीएम शिवराज ने ट्वीट कर कहा कि विभिन्न सोशल मीडिया माध्यमों में खबर चल रही है कि मध्य प्रदेश में गुरुवार से लॉकडाउन लगाया जा रहा है। यह खबर पूर्णतः निराधार है। राज्य में लॉकडाउन को लेकर मध्य प्रदेश शासन द्वारा ऐसा कोई भी निर्णय नहीं लिया गया है।

पिछले दिनो सोशल मीडिया पर एक मैसेज चल रहा है जिसमें कहा जा रहा है कि मुख्य सचिव और गृह सचिव सहित कई विभागों के अफसरों के साथ की उन्होंने बैठक की है और सभी जिलों को पूर्ण लॉक डॉउन के लिए दिए निर्देश दिए हैं। सूत्रों की माने तो 16 से 31 तक राज्य में लागू रहेगा पूर्ण लॉक डॉउन। आज इसकी अधिसूचना जारी हो सकती है।’ सीएम ने इसे पूरी तरह से निराधार बताया है। इस तरह के झूठे मैसेज की वजह से लोग परेशान हो रहे थे और इसकी सत्यता जानने की कोशिश कर रहे थे। सीएम शिवराज ने ट्वीट कर इसकी सच्चाई सामने ला दी है

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में कोविड-19 के नियंत्रण के लिए अच्छे प्रयास हुए हैं। सामाजिक स्तर पर विवाह समारोहों और पार्टी आयोजित करने जैसे कारणों से पॉजीटिव प्रकरण सामने आ रहे हैं, जिनके नियंत्रण के लिए शासकीय और सामाजिक दोनों स्तर पर सजग रहकर कार्रवाई की जाए। सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क के उपयोग की सावधानी निरंतर बरतना है। पॉजीटिव प्रकरण आने की वजह समाप्त की जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मंत्रालय से प्रदेश में कोविड-19 की स्थिति की समीक्षा के दौरान यह निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने खण्डवा और दतिया जिलों की पृथक समीक्षा भी की। बैठक में गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र, स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी, चिकित्सा शिक्षा, भोपाल गैस त्रासदी राहत एवं पुनर्वास मंत्री श्री विश्वास सारंग, मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, पुलिस महानिदेशक श्री विवेक जौहरी उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश के ग्वालियर, चंबल क्षेत्र में कोरोना के पॉजीटिव प्रकरण निकटवर्ती अन्य प्रांतों राजस्थान और उत्तरप्रदेश से सम्पर्क के तहत देखने को मिल रहे हैं। किल कोरोना अभियान के कारण घर-घर हुए सर्वे से भी नागरिकों में रोग के लक्षण देखने को मिले हैं। रोगियों के सेम्पल लेकर उपचार और आयसोलेशन में रखने की सभी व्यवस्थाओं से रोगियों को स्वस्थ करने का कार्य सुनिश्चित किया जाए।

अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान ने बताया कि कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग और अन्य व्यवस्थाओं के बेहतर होने से नियंत्रण में सफलता मिली है। कुल 13 हजार 908 केस रिकवर हुए हैं। प्रदेश का रिकवरी रेट इस समय देश के 63.2 प्रतिशत से अधिक 70.8 प्रतिशत है। बड़े राज्यों में सिर्फ राजस्थान का रिकवरी रेट ही मध्यप्रदेश से अधिक है। प्रदेश का पॉजीटिविटी रेट 3.63 है, जो देश के पॉजीटिविटी रेट 7.54 से काफी कम है। प्रदेश में किल कोरोना अभियान में मंगलवार तक 11 हजार 703 सर्वे दल ने प्रदेश की 75 प्रतिशत आबादी का स्वास्थ्य सर्वे कर लिया है। करीब 93 हजार सेम्पल लिए गए हैं, जिनमें से 1611 पॉजीटिव मिले, जो कुल लिए गए सेम्पल का 1.72 प्रतिशत है।