किल-कोरोना अभियान सफल होने पर ही टूटेगी संक्रमण की चेन – सचिव डॉ. भार्गव

किल-कोरोना अभियान में लापरवाही बरतने वालों पर होगी कड़ी कार्यवाही – कमिश्नर

रीवा . कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित संभागीय समीक्षा बैठक में किल-कोरोना अभियान की जिलेवार समीक्षा की गई। बैठक की अध्यक्षता करते हुए स्वास्थ्य तथा परिवार कल्याण विभाग के सचिव डॉ. अशोक कुमार भार्गव ने कहा कि रीवा संभाग में कोरोना का संक्रमण रोकने के लिए सराहनीय प्रयास किये गये। जिसके कारण लंबे समय तक संभाग में कोरोना संक्रमण के नाममात्र प्रकरण थे। विभिन्न कारणों से संभाग में कोरोना पॉजिटिव की संख्या बढ़ी है। इस पर नियंत्रण करने के लिए ही एक जुलाई से 15 जुलाई तक किल-कोरोना अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के पूरी तरह से सफल होने पर ही संक्रमण की चेन टूटेगी। किल-कोरोना अभियान में संभाग में सिंगरौली जिले ने सराहनीय कार्य किया है। सीधी जिले की स्थिति भी संतोषजनक है। रीवा जिले तथा सतना जिले में जांच की गति बढ़ायें। इन दोनों जिलों में सर्वे दलों को अधिक सक्रिय करने तथा सघन मॉनीटरिंग की आवश्यकता है।
सचिव डॉ. भार्गव ने कहा कि रीवा तथा सतना जिले में किल-कोरोना अभियान को अधिक कारगर बनाने के प्रयास करें। सर्वे दलों से प्राप्त जानकारी सार्थक एप के माध्यम से शत-प्रतिशत दर्ज करायें। अभियान के दौरान कोरोना संक्रमण के साथ-साथ मलेरिया तथा डेंगू से पीड़ित रोगियों, गर्भवती महिलाओं के पंजीयन तथा शिशुओं के टीकाकरण की भी जानकारी लेनी है। जिन जिलों में अभियान के दौरान बिना पंजीयन वाली गर्भवती महिलायें चिन्हित की गई हैं उनका तत्काल पंजीयन कराकर उनकी स्वास्थ्य जांच करायें। साथ ही पंजीयन न करने वाले उत्तरदायी कर्मचारियों के विरूद्ध कार्यवाही करें। अभियान के दौरान टीकाकरण से वंचित बच्चों की सूची बनाकर उनका सम्पूर्ण टीकाकरण करायें। अभियान की पूरी जानकारी समय पर डाटा फीडिंग करायें।


बैठक में सचिव डॉ. भार्गव ने कहा कि रीवा जिले के भ्रमण के दौरान कई घरों में जाकर तथा हितग्राहियों से किल कोरोना अभियान के संबंध में फीडबैक लिया गया। उनसे प्राप्त जानकारी अभियान की निराशाजनक तस्वीर प्रस्तुत करती है। कई गांवों में दल नहीं पहुंचे हैं। जहां दल पहुंचे हैं वहां भी उन्होंने केवल कागजी कार्यवाही की है। बिना किसी उपकरण के संदिग्ध रोगियों की जांच करके रिपोर्ट तैयार की है। केवल कुछ स्थानों में ही दलों ने शासन के निर्देशों के अनुरूप कार्य किया है। इस स्थिति में सुधार करें। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी तथा बीएमओ नियमित रूप से भ्रमण करके अभियान की मॉनीटरिंग करें तभी अभियान का सही उद्देश्य पूरा होगा।
बैठक में रीवा संभाग के कमिश्नर राजेश कुमार जैन ने कहा कि किल-कोरोना अभियान के संबंध में शासन ने स्पष्ट निर्देश दिये थे। रीवा तथा सतना जिले की स्थिति अभियान में संतोषजनक नहीं है। कई अधिकारियों तथा कर्मचारियों ने अभियान को गंभीरता से नहीं लिया। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी रीवा के पास अभियान से जुड़ी तथ्यपरक जानकारियां भी नहीं हैं। ऐसी स्थिति सहन नहीं की जायेगी। सभी अधिकारी बैठक में पूरी तैयारी के साथ आयें। किल-कोरोना अभियान में लापरवाही बरतने वालों पर कड़ी कार्यवाही की जायेगी। पूरे संभाग में सभी जिलों में जब तक लक्ष्य के अनुसार शत-प्रतिशत परिवारों का सर्वेक्षण नहीं हो जाता है तब तक अभियान जारी रहेगा।
कमिश्नर श्री जैन ने कहा कि सतना जिले में प्रति लाख केवल 1643 सेम्पल लिये गये हैं जबकि रीवा जिले में प्रति लाख 3729, सीधी में 5818 तथा सिंगरौली में 5316 नमूनों की जांच करायी गई है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी सतना सर्वे दलों को सक्रिय करके संदिग्ध कोरोना संक्रमितों के नमूने लेकर उनकी जांच करायें। प्रतिदिन कम से कम दो सौ सेम्पल की जांच रीवा तथा सतना जिले करें। टÜ नॉट मशीन से भी पूरी क्षमता के अनुसार जांच करायें।
बैठक में उप संचालक स्वास्थ्य डॉ. एनपी पाठक ने किल कोरोना अभियान की जानकारी देते हुए बताया कि रीवा संभाग में कोरोना संक्रमण से रिकवरी रेट 62.3 प्रतिशत है जबकि फैटलिटी रेट 1.9 प्रतिशत है। अभियान के दौरान रीवा जिले में 1878394, सतना जिले में 2050169, सीधी जिले में 1095029 तथा सिंगरौली जिले में 1439011 व्यक्तियों का सर्वेक्षण किया जा चुका है। संभाग में कुल 78.43 प्रतिशत व्यक्तियों का सर्वे पूरा हो चुका है। इनमें से 13 हजार 242 नमूनों की जांच में 79 व्यक्ति कोरोना से संक्रमित पाये गये। बैठक में कलेक्टर रीवा इलैयाराजा टी, कलेक्टर सीधी रवीन्द्र कुमार चौधरी, मुख्य कार्यपालन अधिकारी सतना रिजु वाफना, मुख्य कार्यपालन अधिकारी रीवा स्वप्निल वानखेड़े, मेडिकल कालेज के डीन डॉ. एपीएस गहरवार, संयुक्त नियंत्रक स्वास्थ्य अभिषेक दुबे, उप संचालक स्वास्थ्य भोपाल डॉ. इन्द्रजीत सिकरवार, संयुक्त कलेक्टर सिंगरौली बीके पाण्डेय, संयुक्त संचालक स्वास्थ्य डॉ. अनंत मिश्रा, सभी जिलों के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी तथा संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

Check Also

 सीएम शिवराज ने लॉकडाउन की खबर को बताया निराधार, बोले पॉजीटिव प्रकरण की वजह को ही समाप्त करें

भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में कोविड-19 के नियंत्रण के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)